Posts

तुमसे...!!!

अब सवाल ज्यादा सुकून देते हैं.

कि;

यूँ ही बस इधर-उधर विचरना मन का

"उन्माद की उड़नतश्तरी"