Posts

कि;

यूँ ही बस इधर-उधर विचरना मन का