Posts

लोकतांत्रिक व्यवस्था एक ऐसी व्यवस्था है जिससे कम पर अब कुछ नहीं स्वीकारा जा सकता

बुद्ध एक व्यक्ति के विराट प्रकटीकरण की सम्भावना को सरल चरितार्थ कर रहे